Blog
सिमेज कॉलेज में आयोजित हुया ‘मनु कहिन’ पुस्तक विमोचन कार्यक्रम | जीवन से जुड़ी घटनाओं पर आधारित है किताब

सिमेज कॉलेज में आयोजित हुया ‘मनु कहिन’ पुस्तक विमोचन कार्यक्रम | जीवन से जुड़ी घटनाओं पर आधारित है किताब

आज सिमेज शैक्षणिक समूह तथा पुतुल फाउंडेशन के द्वारा एक पुस्तक ‘मनु कहिन’ के विमोचन का कार्यक्रम आयोजित किया गया  | इस कार्यक्रम में लेखक मनीष वर्मा,  मुख्य सचिव श्री त्रिपुरारी शरण, पुस्तक विमोचनकर्ता के रूप में उपस्थित थे तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री आलोक राज (पुलिस महानिदेशक – प्रशिक्षण, बिहार, पटना) तथा श्री राजीव रंजन (राष्ट्रीय सचिव – जद (यू) भी मौजूद थे | कार्यक्रम का आयोजन सिमेज कॉलेज समूह के पाटलिपुत्रा शाखा मे किया गया |

इस अवसर पर जानकारी प्रदान करते हुये लेखक मनीष वर्मा ने कहा कि ‘मनु कहिन में सामाजिक जीवन से जुड़ी बातें हैं, व्यक्तिगत जीवन की परेशानियां है, अतीत की मिठास है, वर्तमान का खोखलापन है, युवाओं की समस्याएं हैं, कार्यालयों की विडंबनाएं हैं , बहुत कुछ है मनु कहिन के इस संसार में । मनु कहिन एक आम आदमी की सहज विचाराभिव्यक्ति है । मनु कहिन दिल की आवाज है। एक हस्ताक्षर है । एक धड़कन है । यह एक ऐसी आवाज है जो दिल से निकल कर, दिल में उतर जाती है । कभी व्यंग के रूप में, कभी छोटी सी कविता के रूप में, तो कभी लघु कथा के माध्यम से ।‘

वहीं इस अवसर पर पुस्तक विमोचनकर्ता के रूप में उपस्थित मुख्य सचिव श्री त्रिपुरारी शरण ने कहा कि  ‘लेखन एक प्रबुद्ध प्रक्रिया है और जो समाज लेखकों का आदर नहीं करता वह समाज, प्रबुद्ध समाज नहीं हो सकता | विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री आलोक राज (पुलिस महानिदेशक – प्रशिक्षण, बिहार, पटना) ने कहा कि ‘मैंने इस पुस्तक की प्रस्तावना लिखी है | मनु कहिन में लेखक की संवेदना विस्तृत है । इसमें बेबस जानवर हैं, प्रवासी मजदूर हैं, किसान हैं, निचले पायदान पर खड़े लोग हैं, नौकरी पेशा है ,रईस हैं; वह तमाम लोग जो लेखक की जिंदगी में आते हैं, सब हैं। जीवन की संस्था में लेखक विश्वास करता है और जो भी चीजें जीवन को असहज बनाती हैं वह लेखक के चिंतन परिधि में आती हैं ।‘जबकि श्री राजीव रंजन (राष्ट्रीय सचिव – जद (यू) ने कहा कि ‘यह पुस्तक तारीफ के काबिल है और इस पुस्तक के लेखन के लिए लेखक बधाई के पात्र हैं |

वहीं इस अवसर पार सिमेज समूह के निदेशक नीरज अग्रवाल ने अतिथियों का स्वागत करते हुये कहा कि ‘साहित्य हमारे जीवन को एक दिशा प्रदान करते हैं और छात्रों को विभिन्न साहित्यिक रचनाओं का अध्ययन करना चाहिए | साहित्यों का अध्ययन हमारे जीवन में रंग भरता  है |’

इस अवसर पर सिमेज की सेंटर हेड मेघा अग्रवाल, डीन नीरज पोद्दार, सभी शिक्षक, छात्र तथा जनसमान्य भी मौजूद थे |