सिमेज कॉलेज में हुआ वर्ल्ड कप फ़ाईनल का लाइव प्रसारण | छात्रों द्वारा उमंग, जोश और जूनून का इज़हार

 ‘कैटलिस्ट इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेन्ट एंड एडवांस ग्लोबल एक्सीलेंस’ (सिमेज कॉलेज) एवं ‘कैटलिस्ट मीडिया कॉलेज’ के ओर से कॉलेज के छात्रों के लिए आज भारत और श्रीलंका के मैच कों लाइव देखने का आयोजन किया गया था | जगह थी सिमेज कोलेज का ऑडिटोरियम’ और यहाँ बैठे थे कॉलेज के छात्र एवं छात्राएँ | चारो तरफ जोश और उमंग का माहौल था, और गूंज रही थी एक ही आवाज़ ‘ जीतेगा भाई जीतेगा, इंडिया जीतेगा’

इस अवसर पर मीडिया से बातचीत करते हुए सिमेज के निदेशक प्रोफेसर नीरज अग्रवाल ने कहा की सिमेज में पढ़ने के लिए पुरे बिहार से लोग आते है और वे यहाँ होस्टल्स में रहकर पढाई करते है | वे यहाँ पर टी.वी. रखना अफोर्ड नहीं कर सकते हैं, इसलिए इन छात्रों की खुशियो कों देखते हुए सिमेज के पुरे छात्र तथा शिक्षको ने एक साथ क्रिकेट मैच के आनंद लेने का फैसला किया | उन्होंने कहा कि इस मैच ने पुरे देश में एक उत्सव का माहौल बना दिया है और जब पुरे देश में उत्सव का ये माहौल है, तो क्यों न इस मैच कों एक साथ मिल बैठकर देखे ? इसी उद्देश्य के साथ सिमेज के ऑडिटोरियम में इस मैच के लाइव प्रसारण की व्यस्था की गई| उन्होंने कहा की सिमेज में छात्रों में सर्वांगीण विकास पर ध्यान दिया जाता है और खेलकूद हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा है, खास कर के क्रिकेट से तो वह खेल है जो भारत के 100 करोड लोगो कों एक सूत्र में बांधता है | कश्मीर से कन्याकुमारी तक, चाहे हिंदू हो, मुसलमान हो, सिख हो , ईसाई हो , या और भी किसी भी धर्म के, किसी भी राज्य के, किसी भी जात के लोग हो, सारे ही लोग यह सोच रहें हैं कि कौन वर्ल्ड कप 2011 जीतेगा ? लेकिन सभी लोग दिल से यही चाहते है कि हिंदुस्तान ही जीते |

इस लाइव टेलीकास्ट कों देखने के लिए रंग बिरंगे परिधानों में आये छात्रों ने क्रिकेटमय बना दिया | कुछ ने  भारतीय क्रिकेटरों के जैसी ड्रेस पहन रखी थी, तो कुछ ने उनके मास्क लगा रखे थे | कई छात्रों ने अपने चेहरे पर तिरंगा बना रखा था | सारे छात्रों ने हाथ में प्ले कार्ड ले रखे थे, जिन पर बिभिन्न स्लोगन लिखे हुए थे |छात्रों ने पुरे मैच के दौरान ट्रम्पेट और बैंड बजाकर तथा पठाके एवं फुलझङी छोडकर अपने उत्साह का इज़हार किया | इस अवसर पर छात्रों कों कोलेज के तरफ से कोल्ड ड्रिंक तथा स्नैक्स बांटे गए |

इस अवसर पर अपनी खुशी तथा राय व्यक्त करते हुए सिमेज के एम्. बी. ए. डिपार्टमेंट के छात्र कुणाल ने कहा की ‘जब दो टीमें खेलती है तो जाहिर है की एक ही टीम जीतती है| खेल में हार जीत तो लगी ही रहती है, लेकिन ज्यादा खुशी तब होगी जब इंडिया ही जीते’ | रिजवान, अर्चना, सादत, प्रदीप, सोनाली , वत्सानंद वत्स एवं मोनी कुमारी की भी कमोबेश यही राय थी | मीडिया डिपार्टमेंट के छात्र विजय, संजना कुमारी और अहसान खान इत्यादि का ये मानना था की ‘पिछली मैच में इंडिया सचमुच वर्ल्ड कप चैम्पियन की तरह खेली है और ये सचमुच वर्ल्ड कप की हक़दार है |